चल इश्क़ की राह पर चलकर देखते

उस हसीन राह से गुजरकर देखते हैँ,
चल इश्क़ की राह पर चलकर देखते हैँ!!

क्यूं कहते हैं कि मोहब्ब़त गुनाह है,
चल हम भी यह गुनाह करकर देखते हैँ!!

कितना हसीन होगा साहिल का सफर,
चल इश्क़ के दरिया मेँ उतर कर देखते हैँ!!

सुना है ख्वाब सतरंगी हो जाते हैँ,
चल शबभर अजनबी शहर मेँ ठहरकर देखते है!!

लोग कहते हैँ, इश्क़ और मुश्क़ छुपाए नही छुपते,
चल खुशबू बनकर, फिजां मे बिखरकर देखते हैँ!!

सुना है इश्क़ जन्नत का एहसास है,
चल कुछ पल इस हसीँ मंजर को जीकर देखते हैँ!!

लोग कहते हैँ कि बहुत तड़पाता इश्क है,
चल इश्क़ का जहर पीकर देखते है!!

ज़िन्दगी तो ज़िन्दगी है, चलती ही रहेगी,
चल घड़ी दो घड़ी “परम” मरकर देखते हैँ!!

Us haseen raah se guzarkar dekhte hai,
chal ishq ki raah par chalka dekhte hai!!

kyon kehte hai ki mohabbat gunah hai,
chal ham bhi yeh gunah karkar dekhte hai!!

kitna haseen hoga saahil ka safar,
chal ishq ke dariya mein utar kar dekhte hai!!

suna hai khwab satrangi ho jaate hai,
chal shabbhar ajnabi shehar mein thehrkar dekhte hai!!

log kehte hai, ishq aur mushk chupaye nahi chupte,
chal khushboo bankar, fiza mein bikhar kar dekhte hai!!

suna hai ishq jannat ka ehsaas hai,
chal kuch pal is haseen manzar ko jeekar dekhte hai!!

log kehte hai ki bahut tadpata ishq hai,
chal ishq ka zeher peekar dekhte hai!!

zindgi to zindgi hai, chalti hi rahegi,
chal ghadi do ghadi ‘Param’ markar dekhte hai!!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account