कोरोना कोरोना

कोरोना कोरोना

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

कोरोना कोरोना,
कुछ तो रहम करो ना !!
बहुत हुआ अत्याचार तुम्हारा,
अब तो दया करो ना !!

आज का हर इंसान,
डरा डरा सा है !!
कैद अपने ही घर में,
सहमा सहमा सा है !!

बाजार बंद, व्यापर बंद,
बंद सभी काम धंधे है !!
आगे ही रिश्तों में दूरियाँ थी,
अब तो सब मिलने से भी डरते है !!

कोरोना कोरोना,
अब तो चले जाओ ना !!
बहुत हुआ आक्रमण तुम्हारा,
अब तो दया करो ना !!

माना कि गलतियाँ,
हम इंसानो की ही थी !!
विकास के नाम पर,
हमने हद ही कर दी थी !!

बहुत कुछ सिखाया तुमने,
बहुत कुछ समझाया हमें !!

एक मौका तो दो,
अपने इस पूत को !!
“अलग” ख्याल रखेंगे अब से,
ओह कोरोना हमको बख्श दो !!

कोरोना कोरोना,
कुछ तो रहम करो ना !!
बहुत हुआ अत्याचार तुम्हारा,
अब तो दया करो ना !!
©सुखबीर सिंह ‘अलग’

Corona Corona

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Corona Corona,
Kuch To Rehem Karo Na !!
Bahut Hua Atyachaar Tumhara,
Ab Toh Dya Karo Na !!

Aaj Ka Har Insaan,
Dra Dra Sa Hai !!
Kaid Apne Hi Ghar Mein,
Sehma Sehma Sa Hai !!

Bazaar Band, Vyapar Band,
Band Sabhi Kaam Dhandhe Hai !!
Aagey Hi Rishto Mein Dooriya Thi,
Ab Toh Sab Milne Se Bhi Darte Hai !!

Corona Corona,
Ab Toh Chale Jaao Na !!
Bahut Hua Aakrman Tumhara,
Ab Toh Dya Karo Na !!

Mana Ki Galtiya’n,
Ham Insaanon Ki Hi Thi !!
Vikaas Ke Naam Par,
Hamne Hadh Hi Kar Di Thi !!

Bahut Kuch Sikhaya Tumne,
Bahut Kuch Samjhaya Hame !!

Ek Moka Toh Toh,
Apne Is Poot Ko !!
‘Alag’ Khyaal Rakhege Ab Se,
Oh Corona Hamko Baksh Do !!

Corona Corona
Kuch To Rehem Karo Na !!
Bahut Hua Atyachaar Tumhara,
Ab Toh Dya Karo Na !!
©Sukhbir Singh ‘Alagh’

Sukhbir Singh Alagh
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account