उससे मेरा राबता

उससे मेरा राब्ता

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

खुद से किए वादों से मुकर जाता हूँ मैं,
बातो ही बातों में उसका जिक्र कर जाता हूँ मैं !!

जाने क्या है उससे मेरा राब्ता भला,
जो उसे खोने से, डर जाता हूँ मैं !!

ये जानते हुए भी की आग का दरिया है,
फिर भी उसी में उतर जाता हूँ मैं !!

ये आग भला क्या जलायेगी “रवि” को,
रोज दरिया से निकल आसमाँ में उभर जाता हूँ मैं !!
~रवि कुमार हिन्द

Usse Mera Raabta

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Khud Se Kiye Vaado Se Mukar Jaata Hu Main,
Baaton Hi Baaton Mein Uska Zikr Kar Jata Hu Main !!

Jaane Kya Hai Usse Mera Rabta Bhla,
Jo Use Khone Se, Dar Jaata Hu Main !!

Ye Jaante Huye Bhi Ki Aag Ka Dariya Hai,
Phir Bhi Usi Mein Utar Jata Hu Main !!

Ye Aag Bhla Kya Jalayegi “Ravi” Ko,
Roz Dariya Se Nikal Aasmaa Mein Ubhar Jata Hu Main !!
~Ravi Kumar Hind

Kumar ravi hind
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account