वो केवल माँ नहीं

वो केवल माँ नहीं

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

कुछ रिश्तें आम होते है, कुछ होते है खास,
माँ केवल रिश्ता नहीं, ये है एक एहसास !!

तेरे बिना घर घर नहीं, लगता है मकान,
तुझे देख कर मिट जाती है सारी थकान !!

मेरे बिन कहे समझ लेती है मन की बात,
वो माँ है, शब्द नहीं वो समझती है मेरे जज्बात !!

मेरे गम में दुखी, मेरी खुशी में खुश होते देखा है,
वो केवल माँ नहीं मेरे भाग्य की रेखा है !!
©सौरभ चौबे

Wo Keval Maa Nahi

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Kuch Rishtein Aam Hote Hai, Kuch Hote Hai Khaas,
Maa Keval Rishta Nahi, Ye Hai Ek Ehsaas !!

Tere Bina Ghar Ghar Nahi, Lagta Hai Makaan,
Tujhe Dekh Kar Mit Jaati Hai Saari Thakaan !!

Mere Bin Kahe Samjh Leti Hai Mann Ki Baat,
Wo Maa Hai, Shabd Nahi Wo Samjhti Hai Mere Jazbaat !!

Mere Gam Mein Dukhi, Meri Khushi Mein Khush Hote Dekha Hai,
Wo Keval Maa Nahi Mere Bhagye Ki Rekha Hai !!
©Saurabh Chaube

Saurabh Chaube
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account