यूं न हो नाराज़ मुझसे

यूं न हो नाराज़ मुझसे इस दिल को

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

यूँ न हो नाराज़ मुझसे,
इस दिल को दुःख होता है !!
तुम्हारे लबो की मुस्कान कम न हो,
इसी मुस्कान को देख ये जीता है !!
राह अलग हो बेशक हमारी,
आशिक़ बनकर ये दिल पीछा करता है !!
ये दिल है पागल मेरा,
अक्सर समझकर भी न समझी करता है !!
कभी कम न हो मुस्कान तुम्हारी,
इसी को देख ये दिल जीता है !!
~नीवो (नितिन वर्मा)

Yu Na Ho Naraz Mujhse Is Dil Ko

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Yu Na Ho Naraz Mujhse,
Is Dil Ko Dukh Hota Hai !!
Tumhare Labo Ki Muskaan Kam Na Ho,
Isi Muskaan Ko Dekh Ye Jeeta Hai !!
Raah Alag Ho Beshak Humhari,
Ashique Bankar Ye Dil Peecha Karta Hai !!
Ye Dil Hai Pagal Mera,
Aksar Samjhkar Bhi Na Samjhi Karta Hai !!
Kabhi Kam Na Ho Muskaan Tumhari,
Isi Ko Dekh Ye Dil Jeeta Hai !!
~NiVo (Nitin Verma)

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account