जिस तरह से हर दुकानदार

जिस तरह से हर दुकानदार
छुट्टे पैसे की जगह टॉफ़ी पकड़ा देता है,
समय आ गया है कि
टॉफ़ी को भारत की “वैकल्पिक मुद्रा” घोषित कर देना चाहिए !

Jis tarah se har dukandaar
chutte paise ki jagah toffee pakda deta hai,
samey aa gya hai ki
toffee ko bharat ki “vaikalpik mudra” ghoshit kar dena chahiye !

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account