जुदा होने का मौसम है

जुदा होने का मौसम है,
जुदा होना ही पड़ता है !!
जिसे मुश्किल से पाया हो ,
उसे खोना भी पड़ता है !!

नहीं सोता हूँ रातों को,
तुम्हारी याद आने पर !!
मगर एक ख़्वाब के ख़ातिर,
मुझे सोना भी पड़ता है !!

हमेशा हँसता रहता हूँ ,
छुपाकर गम मुहब्बत के !!
मगर जब तेरा नाम आता है,
मुझे रोना भी पड़ता है !!

juda hone ka mosam hai,
juda hona hi padta hai !!
jise muskil se paya ho,
use khona bhi padta hai !!

nahi sota hu raton ko,
tumhari yaad aaney par !!
magar ek khwaab ke khatir,
mujhe sona bhi padta hai !!

hamesa hansta rehta hu,
chupakar gam muhabbat ke !!
magar jab tera naam aata hai,
mujhe rona bhi padta hai !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account