में वक़्त लगता है

पानी को बर्फ में,
बदलने में वक्त लगता है !!
ढले हुए सूरज को,
निकलने में वक्त लगता है !!

थोड़ा धीरज रख,
थोड़ा और जोर लगाता रह !!
किस्मत के जंग लगे दरवाजे को,
खुलने में वक्त लगता है !!

कुछ देर रुकने के बाद,
फिर से चल पड़ना दोस्त !!
हर ठोकर के बाद,
संभलने में वक्त लगता है !!

बिखरेगी फिर वही चमक,
तेरे वजूद से तू महसूस करना !!
टूटे हुए मन को,
संवरने में थोड़ा वक्त लगता है !!

जो तूने कहा,
कर दिखायेगा रख यकीन !!
गरजे जब बादल,
तो बरसने में वक्त लगता है !!

Paani ko barf mein,
badalne mein waqt lagta hai !!
dhalte suraj ko,
nikalne mein waqt lagta hai !!

thoda dheeraj rakh,
thoda aur zor lagata reh !!
kismat ke jung lage darwaje ko,
khulne mein waqt lagta hai !!

kuch der rukne ke baad,
phir se chal padna dost !!
har thokar ke baad,
sambhalne mein waqt lagta hai !!

bikhregi phir wahi chamak,
tere vajood se tu mehsoos karna !!
toote huye man ko,
savarne mein waqt lagta hai !!

jo toone kha,
kar dikhayega rakh yakeen !!
garje jab badal,
to barasne mein waqt lagta hai !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account