सुना है तुम शायर हो

जेलर : सुना हैं तुम शायर हो,
कुछ सुनाओ यार
.
.
.
.
.
कैदी : “गम-ए-उल्फ़त” में जो जिंदगी कटी हमारी,
जिस दिन जमानत हुई जिंदगी ख़त्म तुम्हारी !!

Jailer – Suna hain tum Shayar ho
Kuch sunao yaar
.
.
.
.
Qaidi – “Gum-E-Ulfat me jo zindagi kati humari,
Jis din jamanat huyi zindagi khatam tumhari” !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account