Swapn Ya Mera Bhram – Hindi Shayari

स्वप्न या मेरा भ्रम

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

किसी गजगामिनी सी सौन्दर्य की प्रतिमा
किसी नदिया की कोई पवित्र सी धारा
तुम अप्रतिम हो या कोई रुप की प्रेयसी
तुम यथार्थ के पटल पर रुप की आभा
संकुचित सी किसी छुईमुई के पौधे सी
तुम मृगनयनी सदृश किसी की छवि
अभिलाषा मेरे ऩयनों की तुम
मेरे विराट मन की कोई परिभाषा
कोई उपमा भी गर दूँ तो किसके जैसी दूँ
तुम सबसे परे मेरे स्वप्न के झिलमिल प्रांगण में
चन्द्र तारों से घिरे अन्नत आकाश में विचरण करती
श्याम की बाँसुरी के जैसी कोई मधुर ध्वनि बजती तुम
यथार्थ पटल में अस्तित्व ही नहीं तुम्हारा
साधना से परे तुम हो
किंचित कोई स्वप्न या मेरा भ्रम
~श्वेता पाण्डे

Swapn Ya Mera Bhram

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Kisi Gajgaamini Si Sondrey Ki Pratima
Kisi Nadiya Ki Koi Pavitr Si Dhara
Tum Apratim Ho Ya Koi Roop Ki Preysi
Tum Yathaarth Ke Patal Par Roop Ki Aabha
Sankuchit Si Kisi Chuyimuyi Ke Podhey Si
Tum Mrignyani Sangsh Kisi Ki Chavi
Abhilasha Mere Neyno Ki Tum
Mere Virat Man Ki Koi Paribhasha
Koi Upma Bhi Gar Doo To Kiske Jaisi Du
Tum Sabse Pare Mere Swapn Ke Jhilmil Prangan Mein
Chandr Taaro Se Ghire Anant Aakash Mein Vicharan Karti
Shyam Ki Bansuri Ke Jaisi Koi Madhur Dhwani Bajti Tum
Yatharth Patal Mein Astitv Hi Nahi Tumhara
Sadhna Se Pare Tum Ho
Kinchit Koi Swapn Ya Mera Bhram
~Shweta Pandey

Shweta Pandey
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account