Wo Kisi Thandi Raat Si Thi – Sad Shayari

वो किसी ठंडी रात सी थी

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मैं तपती दोपहर था,
वो किसी ठंडी रात सी थी !!
मैं अकेला था,
वो दिल में दबी बात सी थी !!
हर वक़्त आंसू थे आंखों में मेरे,
वो आंसूओ के पीछे दबी ज़ज़्बात सी थी !!
मैं तपती दोपहर था,
वो किसी ठंडी रात सी थी !!

मैं गुम था रेगिस्तान में,
मैं फिर भी उसे उसकी तलाश में मिला !!
वो ढूंढती रही मुझे,
और उसे उसके सवालो का जवाब मेरी लाश में मिला !!
वो फिर से हुई,
वो नोक झोंक भरी मुलाकात सी थी !!
मैं तपती दोपहर था,
वो किसी ठंडी रात सी थी !!

कोई दूर बनी इमारत सी सुंदर दिखती है वो,
पास से दर्रे दरार नज़र आते हैं !!
मोहब्बत में गिरी कुछ नहीं दिखता,
बस पतझड़ और बहार नज़र आते हैं !!
वो पतझड़ के गुलाब की तरह,
ख़ुदा किसी नेक करामात सी थी !!
मैं तपती दोपहर सा था,
वो किसी ठंडी रात सी थी।
~गिरीश राम आर्य

Wo Kisi Thandi Raat Si Thi

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Main Tapti Dophar Tha,
Wo Kisi Thandi Raat Si Thi !!
Main Akela Tha,
Wo Dil Mein Dabi Baat Si Thi !!
Har Waqt Aansoo The Aankho Mein Mere,
Wo Aansuo Ke Peeche Dabi Zazbaat Si Thi !!
Main Tapti Dophar Tha,
Wo Kisi Thandi Raat Si Thi !!

Main Gum Tha Registhan Mein,
Main Phir Bhi Use Uski Talash Mein Mila !!
Wo Dhoondti Rahi Mujhe,
Aur Use Uske Sawaalo Ka Jawab Meri Lash Mein Mila !!
Wo Phir Se Huyi,
Wo Nok Jhok Bhari Mulakaat Si Thi !!
Main Tapti Dophar Tha,
Wo Kisi Thandi Raat Si Thi !!

Koi Door Bani Imarat Si Sunder Dikhti Hai Wo,
Paas Se Darre Draar Nazar Aate Hai !!
Mohabbat Mein Giri Kuch Nahi Dikhta,
Bas Patjhad Aur Bhaar Nazar Aate Hai !!
Wo Patjhad Ke Gulaab Ki Tarah,
Khuda Kisi Nek Kramaat Si Thi !!
Main Tapti Dophar Tha,
Wo Kisi Thandi Raat Si Thi !!
~Girish Ram Aryah

Girish Ram Aryah
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account