Aksar Haatho Ki Lakeero Mein – Sad Life Shayari

अक़्सर हाथों की लकीरों में

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

अक़्सर हाथों की लकीरों में जो ख़ुद को ढूंढा करता हूँ,
जो रूप गढ़ा था एक अबला ने उसे बनाया करता हूँ !!
मुझे बस मोहलत मत देना ख़ुदा की ख़ुद के हाथों मौत लिख लू,
उन लकीरों में ख़ुद को पाकर अक़्सर पराया समझता हूँ !!
~सीरवी प्रकाश पंवार

Aksar Haatho Ki Lakeero Mein

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Aksar Haatho Ki Lakeero Mein Jo Khud Ko Dhoonda Karta Hoon,
Jo Roop Gada Tha Ek Abla Ne Use Banaya Karta Hoon !!
Mujhe Bas Mohlat Mat Dena Khuda Ki Khud Ke Haatho Maut Likh Lu,
Un Lakeero Mein Khud Ko Pakar Aksar Paraya Samjhta Hoon !!
~Seervi Prakash Panwar

seervi prakash panwar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account