बस बढ़ता हूँ आगे

अकसर थक जाता हूँ मैं भी,
मंजिल की ओर बढ़ते बढ़ते !!
रुकने की कोशिश भी करता हूँ,
तो रुक नहीं पाता चलते चलते !!
क्यों चला था इस राह पर मैं ?
बस बढ़ता हूँ आगे यही सोचते सोचते !!
~नितिन वर्मा

Aksar thak jata hu main bhi,
manzil ki aur badhte badhte !!
rukne ki koshish bhi karta hu,
to ruk nahi pata chalte chalte !!
kyon chla tha is raah par main ?
bas badhta hu aagey yahi sochte sochte !!
~Nitin Verma

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account