बस एक ही अरमान है

मैं मुस्लिम हूँ ,
तू हिन्दू है , है दोनों इंसान !!
ला में तेरी गीता पढ़ लू ,
तू पढ़ ले मेरी कुरआन !!
अपने तो दिल में है दोस्त ,
बस एक ही अरमान !!
एक थाली में खाना खाए ,
सारा हिन्दुस्तान !!

Main muslim hoon,
tu hindu hai, hai dono insaan !!
La main teri geeta padh lu,
tu padh le meri kuraan !!
apne to dil mein hai dost,
bas ek hi armaan !!
ek thaali mein khana khaye,
sara hindustan !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account