एक देश सोने की चिड़ियाँ बना तो एक

1947 को हिन्द – पाक आज़ाद हुआ ,
कुछ घर आबाद तो बहुत कुछ बर्बाद हुआ !!

एक देश सोने की चिड़िया बना,
तो एक बना आतंकियो का अड्डा !!
एक घूम आया मंगल, चंद्रमा पर,
तो एक अभी तक हिंदुस्तान पर अटका !!

शादी, दिवाली पर फूक देते हम बारूद इतना,
उसके देश में इसका भंडार है जितना !!

जिंदा फूकने की बात करता है वो,
मुर्दा जलाना तो उसमे दम नहीं !!
समझाते है पहले मीठी बोली से हम,
वरना गोली, गाली देने में –
हिंदुस्तान का बच्चा-बच्चा भी कम नहीं !!

1947 ko Hind-Pak azad huya,
kuch ghar abad to bahut kuch barbaad huya !!

Ek desh sone ki chidhiya bna,
to ek bna atanki ka adda !!
ek ghoom aya mangal, chandrma,
to ek abhi tak Hindustan per atka !!

shaadi, diwali par phoonk dete hum barood itna,
uske desh mein iska bhandar hai jitna !!

zinda phoonkne ki baat karta hai wo,
murda jalana to usme dam nahi !!
samajhate hai phele meethi boli se hum,
warna goli, gaali dene mein –
Hindustaan ka baccha baccha bhi kam nahi !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account