अपनी माँ का शहज़ादा हूँ

अपनी माँ का शहज़ादा हूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

माँ मेरी यशोमति,
पर मैं इंसान साधा हूँ !!
काबिल होकर भी मैं,
बिन माँ के आधा हूँ !!
गैरों के लिए नामी कम,
और बदनाम ज्यादा हूँ !!
बिन तख्त-ओ-ताज के भी,
अपनी माँ का शहज़ादा हूँ !!
©नीवो

Apni Maa Ka Shehzaada Hu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Maa Meri Yashomati,
Par Main Insaan Saadha Hu !!
Kabil Hokar Bhi Main,
Bin Maa Ke Aadha Hu !!
Gairo Ke Liye Naami Kam,
Aur Badnaam Jyada Hu !!
Bin Takht-To-Taaj Ke Bhi,
Apni Maa Ka Shehzaada Hu !!
©Nivo

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

1 Comment
  1. Yogesh Khetani 1 वर्ष ago

    Nice poem. I like it.

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account