बेहया है दिल

बेहया है दिल

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ज़ख्म है अभी,
नासूर बनने दो इसे !!
बर्फ़ हो गया है ख़ून,
थोड़ा जलने दो इसे !!
न जाने कब,
जाकर लौ पकड़े !!
अभी वक़्त है,
ज़रा सम्भलने दो इसे !!

कभी न कभी,
ठोकरों से बचेगा ही !!
ज़रा कुछ दूर,
अकेले चलने दो इसे !!
बेहया है दिल,
किसी भी नादां पर आ जाता है !!
मासूम है “गिरी”
जरा फिसलने दो इसे !!
~गिरीश राम आर्य

Behaya Hai Dil

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Zakhm Hai Abhi,
Naasur Banne Do Ise !!
Barf Ho Gya Hai Khoon,
Thoda Jalne Do Ise !!
Na Jaane Kab,
Jaakar Lo Pakde !!
Abhi Waqt Hai,
Zara Sambhalne Do Ise !!

Kabhi Na Kabhi,
Thokro Se Bachega Hi !!
Zara Kuch Door,
Akele Chalne Do Ise !!
Behaya Hai Dil,
Kisi Bhi Naadaan Par Aa Jata Hai !!
Masoom Hai “Giri”
Zara Fisalne Do Ise !!
~Girish Ram Aryah

Girish Ram Aryah
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account