दुनिया में इंसान खुद को ऐसे

Duniya Mein Insaan Khud Ko Aise - Duniyadaari Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

दुनिया में इंसान खुद को ऐसे उठाना चाहता है।
हर एक शख्स यहाँ दूसरे को गिराना चाहता है।
भीतर पल रही नफ़रत की आग मन में, “केशव”
लेकिन मीठी बातों से प्यार दिखाना चाहता हैं।
©केशव

Duniya Mein Insaan Khud Ko Aise - Duniyadaari Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Duniya Mein Insaan Khud Ko Aise Uthana Chahta Hai.
Har Ek Shakhs Yahan Doosre Ko Giraana Chahta Hai.
Bheetar Pal Rhi Nafrat Ki Aag Man Mein, “Keshav”
Lekin Meethi Baato Se Pyaar Dikhana Chahta Hai.
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account