घर के गद्दारों का सफाया हो तो बात बने

Ghar Ke Gaddaaro Ka Safaya Ho Toh Baat Bane - Desh Bhakti Hindi Kavita

www.PoemsBucket.com

सरहद पर तो हम दुश्मन से निपट ही लेंगे यारो,
पहले घर के गद्दारों का सफाया हो तो बात बने।

करते हैं जो चुगली अपने ही देश की बाज़ार में,
इन्हें बाज़ार से बाहर निकाला जाए तो बात बने।

खींचते जो मजहबी लकीर लोगों के बीच में यहाँ,
इनकी ये मक्कार लकीरें मिटाई जाए तो बात बने।

आजाद देश से आजादी चाहते है जो सिरफिरे,
ज़िन्दगी से उन्हें आजाद किया जाए तो बात बने।

टुकड़े टुकडे करने की चाह हैं जिसे हिन्दुस्तान की,
बीच में से उनको टुकडों में चीरा जाए तो बात बने।

करते नहीं जो देश के वीर शहीदों का सम्मान यहाँ,
इन्हें मुल्क की सरहद पर लड़ाया जाए तो बात बने।
©केशव

Ghar Ke Gaddaaro Ka Safaya Ho Toh Baat Bane - Desh Bhakti Hindi Kavita

www.PoemsBucket.com

Sarhad Par Toh Ham Dushman Se Nipat Hi Lenge Yaaro,
Pehle Ghar Ke Gaddaaro Ka Safaya Ho Toh Baat Bane !

Karte Hai Jo Chugli Apne Hi Desh Ki Baazaar Mein,
Inhe Baazaar Se Bahar Nikala Jaaye Toh Baat Bane !

Kheenchte Jo Mazhab Lakeer Logo Ke Beech Mein Yahan,
Inhki Ye Makkar Lakeere Mitai Jaaye Toh Baat Bane !

Aazaad Desh Se Aazaadi Chahte Hai Jo Sirfire,
Zindgi Se Unhe Aazaad Kiya Jaaye Toh Baat Bane !

Tukde Tukde Karne Ki Chaa Hai Jise Hindustan Ki,
Beech Mein Se Unko Tukdo Mein Cheera Jaaye Toh Baat Bane !

Karte Nahi Jo Desh Ke Veer Shahido Ka Sammaan Yahan,
Inhe Mulk Ki Sarhad Par Ladaya Jaaye Toh Baat Bane !
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account