हम मजदूर है साहिब

Ham Majdoor Hai Sahib - Hindi Shayari Kavita Indian Labour In Lockdown

www.PoemsBucket.com

हम मजदूर है साहिब !!
किस्मत के आगे मजबूर है साहिब !!
ये बड़े बड़े बँगले, महल, सड़के
सब हमने ही बनाई है !!
पर आज हम लोगो के दिलो से
बहुत दूर है साहिब !!
हम मजदूर है साहिब !!
किस्मत के आगे मजबूर है साहिब !!

वक़्त ऐसा आया कि
सिर से छत छीन ली गई !!
बच्चे हमारे भूखे है
इन सरकारों से
दो वक़्त की रोटी तक ना दी गई !!
आज दिल वापस
गाँव जाने को जरूर है साहिब !!
हम मजदूर है साहिब !!
किस्मत के आगे मजबूर है साहिब !!

कितने ही हमारे साथी
दिन प्रतिदिन मर रहे है !!
और ये सियासतदान
सत्ता पर बैठे बस अफ़सोस कर रहे है !!
गाँव अभी भी बहुत दूर है !!
हम अब थके हारे चकनाचूर हैं साहिब !!
हम मजदूर है साहिब !!
किस्मत के आगे मजबूर है साहिब !!
©सुखबीर सिंह ‘अलग’

Ham Majdoor Hai Sahib - Hindi Shayari Kavita Indian Labour In Lockdown

www.PoemsBucket.com

Ham Majdoor Hai Sahib !!
Kismat Ke Aage Majboor Hai Sahib !!
Ye Badhe-badhe Bangle, Mehel, Sadke
Sab Hamne Hi Banai Hai !!
Par Aaj Ham Logo Ke Dilo Se
Bahut Door Hai Sahib !!
Ham Majdoor Hai Sahib !!
Kismat Ke Aage Majboor Hai Sahib !!

Waqt Aisa Aaya Ki
Sir Se Chhat Cheen Li Gayi !!
Bacche Hamare Bhookhe Hai
In Sakaro Se
Do Waqt Ki Roti Tak Na Di Gayi !!
Aaj Wdil Wapas
Gaav Jaane Ko Jaroor Hai Sahib !!
Ham Majdoor Hai Sahib !!
Kismat Ke Aage Majboor Hai Sahib !!

Kitne Hi Hamare Saathi
Din Pratidin Mar Rahe Hai !!
Aur Ye Siyasatdaan
Satta Par Baithe Bas Afsos Kar Rahe Hai !!
Gaav Abhi Bhi Bahut Door Hai !!
Ham Ab Thake Haare Chaknachoor Hai Sahib !!
Ham Majdoor Hai Sahib !!
Kismat Ke Aage Majboor Hai Sahib !!
©Sukhbir Singh ‘Alag’

Sukhbir Singh Alagh
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account