इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया

इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

शिक्षा का, मकान का, दुकान का,
जरूरतों के हिसाब से कर्ज़ हो गया !!
“बस भर दूं अब तो EMI जैसे – तैसे”,
इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया !!
©नीवो

Insaan Isi Soch Mein Gudgarz Ho Gaya

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Shiksha Ka, Makaan Ka, Dukaan Ka,
Jarooraton Ke Hisaab Se Karz Ho Gaya !!
“Bas Bhar Du Ab Toh EMI Jaise-Taise”,
Insaan Isi Soch Mein Gudgarz Ho Gaya !!
©Nivo

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account