ख़ुशी गम के बैंक अकाउंट

काश ! ख़ुशी और गम के ,
इनके भी होते बैंक अकाउंट !!
ऐसा चाइल्ड प्लान होता इसमें ,
पुरखो की खुशियाँ जिसमे हो जाती काउंट !!

इन्स्युरेंस होता खुशियों का भी ,
गम के लिए होता एक चेंजिंग प्लान !!
हर ख़ुशी में बदल लेते गम को भी ,
फिर हर बूढ़ा लगता जवान !!

जब कभी ज्यादा गम सताने लगता ,
थोड़ी खुशियाँ ले लेते उधार !!
काश ! अगर ऐसा होने लगता ,
फिर खुशियाँ ही सोना लगने लगता !!

काश ! दुखियो के दुःख मिट जाते,
खुशियों के सब आँचल लहराते !!
सबके चेहरे पर होती मुस्कान ,
काश ! हँसते हँसते मरता हर इंसान !!
~नितिन वर्मा

kash ! khushi aur gam ke ,
inke bhi hote bank account !!
aisa child plan hota isme ,
purkho ki khushiya jisme ho jaati cout !!

insurance hota khushiyo ka bhi ,
gam ke liye hota ek changing plan !!
har khushi may badal lete gam ko bhi ,
phir har bhudha lagta jwaan !!

jab kabhi jyada gam sataney lagta,
thodi khushiya le lete udhaar !!
kash ! agar aisa hone lagta ,
phir khushiya hi sona lagne lagta !!

kash ! dukhiyo ke dukh mit jaate ,
khushiyo ke sab anchal lehraate !!
sabke chehre per hoti muskaan ,
kash ! haste haste marta har insaan !!
kash ! haste haste marta har insaan !!
~Nitin Verma

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account