कोरा कागज़ – स्याही से सजाता चला गया

Kora Kagaz Syaahi Se Sajaata Chala Gaya Sad Love Hindi GhazalKora Kagaz Syaahi Se Sajaata Chala Gaya Sad Love Hindi Ghazal

www.PoemsBucket.com

मोहब्बत के वादें कब तलक अकेले निभाता चला गया,
दिल की राख से हर दास्ताँ उसकी लिखता चला गया !!

ये किसने कह दिया के हर खत में अल्फ़ाज़ हो,
एहसासो का जो दरिया है उसे तेरी यादों से सींचता चला गया !!

हाथ में अपने कलम थाम कोरे कागज़ पर मैंने,
इक- इक शब्दों में अपने तुम्हें गढ़ता चला गया !!

कोरे कागज पर कलम को बनाकर हल जोतता रहा,
तेरी इश्क़ की मजदूरी में शब्दों की फसल उगाता चला गया !!

सुकूं मिलता है जो दो लफ्ज़ कागज़ पर उतार दूँ,
इसलिए कोरे कागज़ को काली स्याही से सजाता चला गया !!
©अमन झा

Kora Kagaz Syaahi Se Sajaata Chala Gaya Sad Love Hindi GhazalKora Kagaz Syaahi Se Sajaata Chala Gaya Sad Love Hindi Ghazal

www.PoemsBucket.com

Mohabbat Ke Vaade Kab Talak Akele Nibhaata Chala Gaya,
Dil Ki Raakh Se Har Daasta’n Uski Likhta Chala Gaya !!

Ye Kisne Keh Diya Ke Har Khat Mein Alfaaz Ho,
Ehsaaso Ka Jo Dariya Hai Use Yaado Se Seenchta Chala Gaya !!

Haath Mein Apne Kalam Thaam Kore Kagaz Par Maine,
Ik-Ik Shabdo’n Mein Apne Tumhe Gadta Chala Gaya !!

Kore Kagaz Par Kalam Ko Bnakar Hal Jotta Raha,
Tere Ishq Ki Majboori Mein Shabdo’n Ki Fasal Ugata Chala Gaya !!

Sukoo’n Milta Hai Jo Do Lafz Kagaz Par Utaar Kar,
Isliye Kore Kagaz Ko Kaali Syaahi Se Sajaata Chala Gaya !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account