My All Posts

Chulhaa Maa Aur Main - Maatr Prem Par Hindi Kavita
Poems
Aman Jha

गाँव छोड़ शहर आए कई वर्ष हो गए
एक धुंधली सी याद आज भी
मेरे ज़हन में रह गई है कहीं
बचपन में जब भी
माँ कपड़े या बर्तन धोने बाड़ी में जाती
मैं जल्दी से रसोई घर में घुस जाता
कढ़ाई चढ़ा कर चूल्हे पर मैं रोज
उसे जलाने की कोशिश करने लगता था
पर कुछ ही समय में मुझे यकीन हो चला था

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Main Deshdrohi Hu - Deshbhakti Patriotic Hindi Kavita Shayari
Poems
Aman Jha

मैं पढ़ता भी हूँ और पढ़ाता भी हूँ,
सत्ता से सवाल करना सिखाता भी हूँ,
तर्कवादी बने के लिए उकसाता भी हूँ,
सत्ता से संघर्ष ही धर्म हैं बतलाता भी हूँ,
इसलिए मैं देशद्रोही कहलाता हूँ !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Haan Main Nastik Hu - Why Am I Atheist Hindi Shayari
शायरी
Aman Jha

मैं नहीं मानता इंसानों द्वारा बनाए,
किसी दकियानूसी रीति रिवाज को,
धर्म के नाम पर विभाजित तेरे
इस समाज को,
ना मैं पत्थर पूजू, ना ही कब्र में दफन इंसान को,
नकारता हूँ किसी सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी
इंसान के होने के अस्तित्व को,
जी हाँ मैं नास्तिक हूँ !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Patther Ki Moorat Ho - Aaj Ke Duar Ki Aakrosh Hindi Kavita
शायरी
Aman Jha

जब किसी का घर सुलगते हुए,
किसी स्त्री का देह नोंचते हुए,
दुर्बल पर आघात करते हुए,
तुम्हारे हाथों की कंपन से,
देह अग्नि के भाती दहक ना उठे,
तो तुम सिर्फ पत्थर की मूरत हो !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Main Itihaas Badal Daalunga - Motivational Hindi Shayari Kavita
शायरी
Aman Jha

कब तलक दौड़ता रहूँगा,
बिना मंज़िल हवा की तरह
हर खोखली परंपरा को तार-तार कर,
अंधविश्वासों की किताब,
मैं अब जला डालूँगा !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Kora Kagaz Syaahi Se Sajaata Chala Gaya Sad Love Hindi GhazalKora Kagaz Syaahi Se Sajaata Chala Gaya Sad Love Hindi Ghazal
ग़ज़ल
Aman Jha

मोहब्बत के वादें कब तलक अकेले निभाता चला गया,
दिल की राख से हर दास्ताँ उसकी लिखता चला गया !!

पूरी गज़ल के लिए क्लिक करे!

Read More »
Ek Kadam Badho Toh Sahi - Hindi Motivational Shayari
शायरी
Aman Jha

पथ में कांटें हैं, रुकावटें हैं, फिर भी चलो तो सही,
हिम्मत को तलवार बना, एक कदम बढ़ो तो सही !!

डूब रहा है सूरज और देखो अँधेरा घिरने लगा,
बना के मन को रोशनी, अंधेरों से लड़ो तो सही !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Kavitaon Ki Aatma Tum Hi Ho - Prem Ras Kavita Hindi Shayari
शायरी
Aman Jha

क़लम मेरी चली कागज़ पर..
शब्दों की वर्णमाला तुम ही हो।
पिरोया जिसे पंक्तियों में..
उन कविताओं की आत्मा तुम ही हो।

मेरे काव्य का आधार..
हर शब्द का बखान तुम ही हो।
तुम्हीं से भाव का स्वर फूटा..
मेरे प्रेम का विश्वास तुम्हीं हो।

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Kitni Aasaani Se Ye Vaade Tod Jaate Hai - Sad Love Hindi Shayari
शायरी
Aman Jha

कितनी आसानी से ये वादे तोड़ जाते है,
छोटी छोटी बातों में रिश्ता तोड़ जाते है !!
पल पल में रंग बदलते है यहाँ लोग सारे,
जैसे बदलते हो बदन पर वस्त्र ये सारे !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »
Shayad Anpad Ho Raha Tha - Hindi Sad Life Shayari
शायरी
Aman Jha

मैं पढ़ पढ़ कर शायद अनपढ़ हो रहा था,
बिना समझे ना जाने क्या समझा रहा था !!

किताबों का हर पन्ना सूख कर पीला पड़ रहा था,
किसी कोने में पड़े हर अक्षर पर धूल चढ़ रहा था !!

शहर में धर्म पर खुलेआम शोर हो रहा था,
असल में धर्म किताबों में बंद रो रहा था !!

पूरी शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे!

Read More »

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account