मेरे अंतर्मन की स्वर्णिम ईप्सा

Meri Antrman Ki Swarnim Ipsa - Love Hindi Kavita Shayari

www.PoemsBucket.com

मैंने कहा इन बारिश की बूँदों को
जरा जमकर बरसे प्रियसी की गली में
ऊष्मा से दहकते  उनकी गलियों को
अपनी शीतल बूंदों की चादर चढ़ा दे
कि आँगन में उनका नृत्य करना हो
मेरा अबोध भाव से उन्हें देखना हो ।

मैंने कहा उन पँछियों से जो बैठे थे
उसकी बालकनी की मुंडेर पर कि
कोई मधुर धुन ऐसा सुनाए जरा, कि
उसे सुने वह भीतर से बाहर दौड़ी आए
पानी की प्यासी रेत सी इन आंखों को
उनके दीदार मात्र से सराबोर हो जाए ।

बादलों से कहा फिर मैंने कि अपनी
इन काली घटाओ में छुपा ले कहीं
दिनकर के इन निदाध किरणों को
कि उनका अपने घर से निकलना हो
और हमारे  प्रेम की शुरुआत हो ।

मैंने कहा हवाओं से जरा धीरे चले
उसके अधरॊ से प्रस्वेद की बूँदों को
संतृप्ति करते चल
कि अब शुष्क पड़े उनके अधरों को,
अपने चुंबनों की परवाह से
उसे परितृप्ति कर सकूँ ।

ये पँछि, हवाएँ, बादल और बारिश सभी
तुम्हारे और मेरे अमर प्रेम के साक्षी बने और
सदियों तक हमारी यह दास्तान सुनाते रहें,
मेरे हर जन्म तुम मेरी बनो, मैं तुम्हारा बनूँ
अब यही मेरे अंतर्मन की स्वर्णिम ईप्सा है।
©अमन झा

Meri Antrman Ki Swarnim Ipsa - Love Hindi Kavita Shayari

www.PoemsBucket.com

Maine Kaha In Barish Ki Boondo Ko
Zra Jamkr Barse Priyesi Ki Gali Mein
Ushma Se Dehkte Unki Galiyo Ko
Apni Sheetal Boondo Ki Chhadar Chda De
Ki Aagan Mein Unka Nritya Karna Ho
Mera Abodh Bhaav Se Unhe Dekhna Ho !!

Maine Kaha Un Pnchiyo Se Jo Baith The
Uski Balkni Ki Muder Par Ki
Koi Madhur Dhhun Aisa Sunaye Zara, Ki
Usey Suney Veh Bhitar Se Bahar Dodi Aaye
Paani Ki Pyaasi Ret Si In Aankhon Ko
Unke Didaar Maatr Se Srabor Ho Jaaye !!

Badalo Se Kaha Phir Maine Ki Apni
In Kali Ghatao Mein Chupa Le Kahin
Dinkar Ke In Nidaadh Kirno Ko
Ki Unka Apne Ghar Se Niklna Ho
Aur Hamare Prem Ki Shuruaat Ho !!

Maie Kaha Hawao Se Jara Dheere Chale
Uske Adhro Se Presved Ki Boondo Ko
Sntript Karte Chal
Ki Ab Shushk Pade Unke Akshro Ko,
Apne Chumbno Ki Parwah Se,
Usey Paritripti Kar Saku !!

Ye Panchi, Hawayein, Badal Aur Barish Sabhi
Tumhare Aur Mere Amar Prem Ke Sakshi Bane Aur
Sadiyo Tak Hamari Yeh Daastaan Sunaate Rahe
Mere Har Janm Tum Meri Bano, Main Tumhara Banu
Ab Yahi Mere Antrman Ki Swarnim Ipsa Hai !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account