मैं इतिहास बदल डालूँगा

Main Itihaas Badal Daalunga - Motivational Hindi Shayari Kavita

www.PoemsBucket.com

कब तलक दौड़ता रहूँगा,
बिना मंज़िल हवा की तरह
हर खोखली परंपरा को तार-तार कर,
अंधविश्वासों की किताब,
मैं अब जला डालूँगा !!

क्यों नहीं कम होगी पीड़ा और
सूखेंगे गरीब की आँखों के आँसू,
उनके खून और पसीने से सींचा
ये मक्कार और कपटियों का हस्तिनापुर,
कृष्ण बन
मैं अब विनाश कर डालूँगा !!

रास्ते के किनारे खड़े तमाशा नहीं देखूँगा,
भूखे प्यासे बच्चों और लोगों की व्याकुलता,
सिर्फ अपने कलम से कागज पर नहीं लिखूंगा,
किसान बन
मैं अनाज का पहाड़ खड़ा कर डालूँगा !!

पढ़-पढ़ कर इतना दिद्वाम हुआ,
कि काम ना तू किसी के आ सका,
जुबां सिल अपनी, विचारों से दरिद्र हुआ,
बे-ज़ुबानों की जुबान बन,
मैं अब इंकलाब कर डालूँगा !!

रेत का कतरा कतरा
निचोड़ डालूंगा,
कलम को मन की स्याही से भर,
मैं सारा का सारा,
इतिहास बदल डालूँगा !!
©अमन झा

Main Itihaas Badal Daalunga - Motivational Hindi Shayari Kavita

www.PoemsBucket.com

Kab Talak Daudta Rahunga,
Bina Manzil Hawa Ki Tarah,
Har Khokhli Parampara Ko Taar-taar Kar,
Andhvishwaso Ki Kitaab,
Main Ab Jala Daalunga !!

Kyon Nahin Kab Hogi Peeda Aur
Sookhege Garib Ke Aankho Ke Aansoo,
Unke Khoob Aur Paseene Se Seencha,
Ye Makkar Aur Kaptiyo Ka Hastinapur,
Krishn Ban
Main Ab Vinash Kar Daalunga !!

Raaste Ke Kinaare Khade Tamasha Nahin Dekhuga,
Bhookhe Pyaase Baccho Aur Logo Ki Vyakulta,
Sirf Apne Kalam Se Kagaz Par Nahin Likhuga,
Kisaan Ban
Main Anaaj Ka Pahaad Khada Kar Daalunga !!

Padh-padh Kar Itna Didwam Hua,
Ki Kaam Na Hu Kisi Ke Aa Saka,
Zubaa’n Sil Apni, Vichaaro Se Daridr Hua,
Be-zubaano Ki Zubaan Ban,
Main Ab Inquilaab Kar Daalunga !!

Ret Ka Katra Katra
Nichod Daalunga,
Kalam Ko Man Ki Syahi Se Bhar,
Main Saara Ka Saara,
Itihaas Badal Daalunga !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account