कविताओं की आत्मा तुम ही हो

Kavitaon Ki Aatma Tum Hi Ho - Prem Ras Kavita Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

क़लम मेरी चली कागज़ पर..
शब्दों की वर्णमाला तुम ही हो।
पिरोया जिसे पंक्तियों में..
उन कविताओं की आत्मा तुम ही हो।

मेरे काव्य का आधार..
हर शब्द का बखान तुम ही हो।
तुम्हीं से भाव का स्वर फूटा..
मेरे प्रेम का विश्वास तुम्हीं हो।

मेरी कविताओं की आत्मा तो तुम ही हो…

कलम रूपी रथ चला भले मैं रहा हूँ..
पर इस की सारथी तुम ही हो।
कि मेरी गजल, मेरी नज़्म और मेरी कविता..
की पहली और आखिरी किरदार तुम ही हो।

मेरी कविताओं की आत्मा तो तुम ही हो…

मेरे द्वारा रची गई..
हर कविता की प्रेरणा तुम ही।
तुम हो तो ही है मेरी कविता..
इस प्रेम के सूरदास की उपासना तुम ही हो।

मेरी कविताओं की आत्मा तो तुम ही हो…
©अमन झा

Kavitaon Ki Aatma Tum Hi Ho - Prem Ras Kavita Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Kalam Meri Chali Kagaz Par..
Shabdo Ki Varnmaala Tum Hi Ho!
Piroya Jise Panktiyon Mein..
Un Kavitao’n Ki Aatma Tum Hi Ho!

Mere Kavye Ka Aadhaar..
Har Shabd Ka Bakhaan Tum Hi Ho!
Tumhi Se Bhaav Ka Swar Phoota..
Mere Prem Ka Vishwas Tumhi Ho!

Meri Kavitao’n Ki Aatma Toh Tum Hi Ho…

Kalam Roopi Rath Chla Bhale Main Rha Hu..
Par Is Ki Saarthi Tum Hi Ho!
Ki Meri Ghazal, Meri Nazm Aur Meri Kavita..
Ki Pehli Aur Akhiri Kirdaar Tum Hi Ho!

Meri Kavitao’n Ki Aatma Toh Tum Hi Ho…

Mere Dwara Rachi Gayi..
Har Kavita Ki Prerna Tum Hi!
Tum Ho Toh Hi Hai Meri Kavita..
Is Prem Ke Soordas Ki Upaasna Tum Hi Ho!

Meri Kavitao’n Ki Aatma Toh Tum Hi Ho…
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account