मेरी माँ की सूरत फकीरों सी

Meri Maa Ki Surat Fakeero Si - Maa Hindi Kavita Shayari

www.PoemsBucket.com

मेरी माँ की सूरत फकीरों सी,
जो दे गई लकीरें वाजूदों सी,
मैं कितनी बात लिखूँ उसकी,
लफ्ज़ खत्म हो जाए अमीरी के।

जो अतुल्य दर्द कहा जाता है ज़माने भर में,
वो गर्भ का दर्द है माँ के पाले में।
जो पानी सूख जाए सर्दी की रातों में,
वो तप्त है माँ के पैरों के छालों में।

पैदल न चलने देती पल भर भी,
हमसफ़र थी जो राह के काँटों की,
सीने से लगा कर रखा बचपन में,
कि छू न जाए नजर ज़माने भर की।

भूखा मरता देख अपने लाल,
ले हाथ कटोरा खड़ी हो जाए।
जो न हो बात पल भर भी,
वो रात भर भूखी सो जाए।

क्या वजूद लिखूँ मैं इस खुदा का,
जो लिखूँ तो स्याही खत्म हो जाए।
अग़र लिखा दर्द उसके गर्भ का,
तो सात जन्म कम पड़ जाए।
©सीरवी प्रकाश पंवार

Meri Maa Ki Surat Fakeero Si - Maa Hindi Kavita Shayari

www.PoemsBucket.com

Meri Maa Ki Surat Fakeero Si,
Jo De Gayi Lakeere Wazoodo Si,
Main Kitni Baat Likhu Uski,
Lafz Khatm Ho Jaaye Ameeri Ke !

Jo Atulye Dard Kha Jata Hai Zamaane Bhar Mein,
Wo Garbh Ka Dard Hai Maa Ke Paale Mein !
Jo Paani Sookh Jaaye Sardi Ki Raato Mein,
Wo Tapt Hai Maa Ke Peiro Ke Chaalo Mein !

Paidal Na Chalne Deti Pal Bhar Bhi,
Hamsafar Thi Jo Raah Ke Kaanto Ki,
Seene Se Lagakar Rakha Bachpan Mein,
Ki Choo Na Jaaye Nazar Zamaane Bhar Ki !

Bhookha Marta Dekh Apne Laal,
Le Haath Katora Khadi Ho Jaaye!
Jo Na Ho Baat Pal Bhar Bhi,
Wo Raat Bhar Bhookhi So Jaaye!

Kya Wazood Likhu Main Is Khuda Ka,
Jo Likhu Toh Syahi Khatm Ho Jaaye!
Agar Likha Dard Uske Garbh Ka,
Toh Saath Zamn Kam Padh Jaaye!
©Seervi Prakash Panwar

seervi prakash panwar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account