चूल्हा-माँ और मैं

Chulhaa Maa Aur Main - Maatr Prem Par Hindi Kavita

www.PoemsBucket.com

गाँव छोड़ शहर आए कई वर्ष हो गए
एक धुंधली सी याद आज भी
मेरे ज़हन में रह गई है कहीं
बचपन में जब भी
माँ कपड़े या बर्तन धोने बाड़ी में जाती
मैं जल्दी से रसोई घर में घुस जाता
कढ़ाई चढ़ा कर चूल्हे पर में रोज
उसे जलाने की कोशिश करने लगता था
पर कुछ ही समय में मुझे यकीन हो चला था
कि मैं उसे ठीक से नहीं जला पा रहा था
क्योंकि खाना कभी पका ही नहीं, और
माँ जब लौट कर आती तो हँस के गले लगा लेती ।

माँ की फूंक में कोई जादू था शायद
चोट लगने पर उनकी एक फूंक से
सारा का सारा दर्द गायब हो जाता था,
और चूल्हे में रखी गीली लकड़ी भी
फटाक से जल उठती थी,
कुछ ही देर में स्वादिष्ट खाना थाली में मेरे सामने होती थी
मानो वो चूल्हा और लकड़ी सिर्फ माँ की बात ही सुनती थी।

आज उन बाढ़ की स्मृति को याद करता हूँ
तो याद आता हैं वह घुटने तक पानी में
डूबा हुआ हमारा घर, कई दिनों तक
दिन रात होती बरसात और वह चौकी
के ऊपर चौकी उस पर चूल्हा
मानो माँ ने इंद्र से शर्त लगा रखी हो
चाहे जितनी बारिश हो उनके बच्चे भूखे नहीं सोएंगे
माँ का हर कठिनाई से लड़ जाना ही अब प्रेरणा बन गई
जो हमे हर मुसीबत में आगे बढ़ने को प्रोत्साहित करती है ।

मुझे लगता है शायद माँ को सबसे ज्यादा
घर में कोई जानता हो तो वह था चूल्हा
घर की तंगहाली में भूखे पेट उनका सो ना
लकड़ी चीरते हुए हाथों के ज़ख्म
या चूल्हा फूंकते हुए उनके सारे सपने
कब उसमे सुल गए
चूल्हा सब जानता था ।

मैं कहूंगा,
माँ वह चूल्हा थी
जिसके भीतर में कई वर्षों तक
उनके संघर्ष की अग्नि में, मैं पकता रहा हूँ
मैं उनके द्वारा बनाया वह पकवान हूँ
जिसमें नमक और मिठास की मात्रा कभी कम नहीं हुई
मैं उनका बनाया सबसे स्वादिष्ट पकवान हूँ ।।
©अमन झा

Chulhaa Maa Aur Main - Maatr Prem Par Hindi Kavita

www.PoemsBucket.com

Gaaanv Chhod Shehr Aaye Kai Varsh Ho Gaye
Ek Dhundhli Si Yaad Aaj Bhi
Mere Jehn Men Reh Gayi Hai Kahin
Bchpan Mein Jab Bhi
Maa Kapde Ya Bartan Dhoney Baadi Mein Jati
Main Jaldi Se Rasoi Ghar Mein Ghus Jata
Kdhai Chdha Kr Chulhe Par Main Roj
Use Jlaane Ki Koshish Krne Lgta Tha
Par Kuch Hi Smy Mein Mujhe Yakin Ho Chlaa Tha
Ki Main Usey Thik Se Nahin Jlaa Paa Rha Tha
Kyonki Khaanaa Kbhi Pka Hi Nahin, Aur
Maan Jb Laut Kr Aati To Hans Ke Gale Lga Leti.

Maa Ki Foonk Mein Koi Jaadu Thaa Shayad
Chhot Lgne Pr Unki Ek Foonk Se
Sara Ka Sara Dard Gayab Ho Jata Tha,
Aur Chulhe Mein Rkhi Geeli Lakdi Bhi
Ftaak Se Jal Uthti Thi,
Kuch Hi Der Men Svaadist Khana Thaali Mein Mere Saamne Hoti Thi
Maano Vo Chulhaa Aur Lakdi Sirf Maa Ki Baat Hi Sunti Thi.

Aaj Un Baadh Ki Smriti Ko Yaad Krta Hu
To Yaad Ata Hain Veh Ghutne Tak Paani Mein
Dooba Hua Hmara Ghar, Kai Dino Tak
Din Raat Hoti Barsaat Aur Veh Chauki
Ke Oopr Chauki Us Pr Chulhaa
Maano Maa Ne Indr Se Shrt Lgaaa Rkhi Ho
Chaahe Jitni Baarish Ho Unke Bachche Bhookhe Nahin Soyenge
Maa Kaa Har Kathnai Se Lad Jana Hi Ab Prernaa Ban Gai
Jo Hame Har Musibat Mein Aage Badhne Ko Protsaahit Krti Hai.

Mujhe Lgta Hai Shayad Maa Ko Sbse Jyada
Ghar Mein Koi Jaantaa Ho To Veh Tha Chulhaa
Ghar Ki Tnghaali Mein Bhookhe Pet Unkaa Sonaa
Lakdi Cheerte Huye Haathon Ke Jakhm
Ya Chulhaa Foonkte Huye Unke Saare Sapne
Kab Usme Sul Gae
Chulha Sab Jaanta Tha.

Main Kahunga,
Maa Veh Chulhaa Thi
Jiske Bheetar Main Ki Varsho’n Tak
Unke Sangharsh Ki Agni Mein, Main Pkta Rha Hu
Main Unke Dvara Bnaya Veh Pkvaan Hu
Jismein Namak Aur Mithaas Ki Matra Kbhi Kam Nahi Hui
Main Unka Bnaya Sabse Svaadist Pakvaan Hu..
©Aman Jhaa

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account