मैं देशद्रोही हूँ

Main Deshdrohi Hu - Deshbhakti Patriotic Hindi Kavita Shayari

www.PoemsBucket.com

मैं पढ़ता भी हूँ और पढ़ाता भी हूँ,
सत्ता से सवाल करना सिखाता भी हूँ,
तर्कवादी बने के लिए उकसाता भी हूँ,
सत्ता से संघर्ष ही धर्म हैं बतलाता भी हूँ,
इसलिए मैं देशद्रोही कहलाता हूँ !!

सत्य ही मेरे जीवन जीने का मार्ग हैं,
कविता ही सत्ता के खिलाफ मेरा हथियार हैं,
जिसमें मैंने लिखा हैं असहाय, शोषित, दबे,
कुचले, वंचित लोगों की आवाज को,
सरकार की हर विभाजन कारी नीतियों को,
सत्ताधारियो को मेरा यही कार्य नहीं भाता हैं,
इसलिए मैं देशद्रोही कहलाता हूँ !!

शहीदों के लिए एक दिन का शौक़ नहीं मानता हूँ,
बलात्कार होने पर कैंडल लेकर नहीं निकलता हूँ,
पैरों के छाले देख मजदूर के दु:ख नहीं प्रकट करता हूँ,
अपने भीतर उठे क्रोध को ऊर्जा में तबदिल करता हूँ,
सत्ता में बैठे नकारा और निकम्में लोगों से, उनकी
लाचारी और बुझदिलपन पर सवाल करता हूँ,
इसलिए मैं देशद्रोही कहलाता हूँ !!

मैं किसी नेता की अंधभक्ति नहीं कर सकता,
किसी एक प्रकार की विचारधारा से सहमत हो,
उसी तरह के वस्त्र या धर्म चिन्ह् धारण नहीं करता हूँ,
मेरा प्रेम किसी धर्म के खूंटे से बंधा कोई जानवर नहीं,
नागपुरिया फरमान नहीं, देश के सविधान को मानता हूँ,
मैं अंधेरे को उजाला नहीं, अंधेरा ही  कहता हूँ,
इसलिए मैं देशद्रोही कहलाता हूँ !!

उन्हें आपत्ति है कि
मैं ब्रह्मण हो दलित उत्पीड़न की बात करता हूँ,
हिन्दू हो मुसलमान के हक की बात करता  हूँ,
मुफ़्त शिक्षा और स्वास्थ्य की बात करता हूँ,
बिजली, पानी और रास्तों के ऊपर सवाल करता हूँ,
युवाओं की बेरोज़गारी के सवाल पर आंदोलन करता हूँ,
मैं आदिवासियों के साथ उनकी जल, जंगल,
और ज़मीन के हक कि लड़ाई लड़ता हूँ,
मैं विपक्ष की नहीं सरकार की क्यों खिलाफत करता हूँ,
इन्हीं आपत्तियों के कारण मैं देशद्रोही कहलाता हूँ !!

मेरा यह सभी कार्य करना ही, यदि,
देशद्रोही होने की परिभाषा है,
तो मैं कहना चाहूंगा मुझे नाज़ है,
अपने देशभक्त ना हो के देशद्रोही होने पर,
और मैं यही सदैव चाहूंगा कि मेरे,
देश की पूरी आवाम ही देशद्रोही बन जाए !!.
©अमन झा

Main Deshdrohi Hu - Deshbhakti Patriotic Hindi Kavita Shayari

www.PoemsBucket.com

Main Padhta Bhi Hu Aur Padhaata Bhi Hu,
Satta Se Sawaal Karna Sikhaata Bhi Hu,
Tarkvaadi Banne Ke Liye Uksaata Bhi Hu,
Satta Se Sangharsh Hi Dharm Hai Batlaata Bhi Hu,
Isliye Main Deshdrohi Kehlaata Hu !!

Satye Hi Mere Jiwan Jeene Ka Marg Hai,
Kavita Hi Satta Ke Khilaaf Mera Hathiyaar Hai,
Jisme Maine Likha Hai Ashahye, Shoshit, Dabe,
Kuchle, Vnchit Logo Ki Aawaz Ko,
Sarkaar Ki Har Vibhajan Kaari Nitiyo Ko,
Sattadhaari Ko Mera Yahi Karye Nahi Bhaata Hai,
Isliye Main Deshdrohi Kehlaata Hu !!

Sahido Ke Liye Ek Din Ka Shok Nahi Manta Hu,
Balatkaar Hone Par Candle Lekar Nahin Niklta Hu,
Peiro Ke Chaale Dekh Majdoor Ke Dukh Nahi Prakat Karta Hu,
Apne Bheetar Uthe Krodh Ko Urja Mein Tabdeel Karta Hu,
Satta Mein Baithe Nakaara Aur Nikamme Logo Se, Unki
Lachaari Aur Bujhdilpan Par Sawaal Karta Hu,
Isliye Main Deshdrohi Kehlaata Hu !!

Main Kisi Neta Ki Andhbhakti Nahi Kar Skta,
Kisi Ek Prakar Ki Vichaardhaara Se Sehmat Ho,
Usi Tarah Ke Vastr Ya Dharm Chin Dharan Nahi Karta Hu,
Mera Prem Kisi Dharm Ke Khoonte Se Bandha Koi Jaanvaar Nahi,
Naagpuriya Farmaan Nahin, Desh Ke Samvidhaan Ko Maanta Hu,
Main Andhere Ko Ujaala Nahin, Adhera Hi Kehta Hu,
Isliye Main Deshdrohi Kehlaata Hu !!

Unhe Aapatti Hai Ki
Main Brahman Ho Dalit Utpidan Ki Baat Karta Hu,
Hindu Ho Musalman Ke Haq Ki Baat Karta Hu,
Muft Siksha Aur Swasthye Ki Baat Karta Hu,
Bijli, Paani Aur Raasto Ke Upar Sawal Karta Hu,
Yuvao Ki Berojgaari Ke Sawal Par Andolan Karta Hu,
Main Aadivasiyo Ke Saath Unki Jal, Jungle,
Aur Zameen Ke Haq Ki Ladai Ladhta Hu,
Main Vipaksh Ki Nahin Sarkar Ki Kyon Khilafat Karta Hu,
Inhi Aapattiyon Ke Karam Main Deshdrohi Kehlaata Hu !!

Mera Yeh Sabhi Karye Karna Hi, Yadi,
Deshdrohi Hone Ki Paribhasha Hai,
Toh Main Kehna Chahunga Mujhe Naaz Hai,
Apne Deshbhakt Na Ho Ke Deshdrohi Hone Par,
Aur Main Yahi Sadaiv Chaunga Ki Mere,
Desh Ki Poori Aawam Hi Deshdrohi Ban Jaaye !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account