हाँ मैं नास्तिक हूँ

Haan Main Nastik Hu - Why Am I Atheist Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

मैं नहीं मानता इंसानों द्वारा बनाए,
किसी दकियानूसी रीति रिवाज को,
धर्म के नाम पर विभाजित तेरे
इस समाज को,
ना मैं पत्थर पूजू, ना ही कब्र में दफन इंसान को,
नकारता हूँ किसी सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी
इंसान के होने के अस्तित्व को,
जी हाँ मैं नास्तिक हूँ !!

ना मुझे लालच मरने के बाद स्वर्ग की,
ना ही अभिलाषा अगले जन्म सर्वोपरि होने की,
ना कर्म कांड में मानू, ना ही धर्म शास्त्र जानू,
इंसानित से बढ़ कर किसी ईश्वर को ना मानू,
जी हाँ मैं नास्तिक हूँ !!

तुम्हारी पुरानी आस्था और मान्यता के,
सिद्धांतो को सदैव चुनौती मैं देता हूँ,
उन्हें अपने कठोर तर्क और वितर्क के,
कसौटी पर परख कर धारण करता हूँ,
ना धार्मिक होने का आडम्बर करता हूँ,
जी हाँ मैं नास्तिक हूँ !!

ना मुझे डर तेरे बनाए किसी ईश्वर का,
ना ही उसके नाम से भय का धंधा करता हूँ,
यथार्थवादी व्यक्ति हूँ तौला है अपने
हर व्यवहार को तर्क के तराजू में,
अन्धविश्वास एक सुधार विरोधी हथियार है,
तर्क ही मेरे जीवन का मार्ग दर्शक है,
जी हाँ मैं नास्तिक हूँ !!
©अमन झा

Haan Main Nastik Hu - Why Am I Atheist Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Main Nahi Maanta Insaano Dwara Banaye,
Kisi Dakiyanoosi Riti Riwaz Ko,
Dharm Ke Naam Par Vibhajit Tere
Is Samaaj Ko,
Na Main Pather Pooju, Na Hi Kabr Mein Dafn Insaan Ko,
Nakaarta Hu Kisi Sarvshaktimaan, Sarvvyaapi
Insaan Ke Hone Ke Astitv Ko,
Ji Haan Main Nastik Hu !!

Na Mujhe Lalach Marne Ke Baad Swarg Ki,
Na Hi Abhilasha Agle Janm Sarvopari Hone Ki,
Na Karm Kaand Mein Maanu, Na Hi Dharm Shashtr Jaanu,
Insaaniyat Se Badhkar Kisi Insaan Ko Na Maanu,
Ji Haan Main Nastik Hu !!

Tumhari Purani Aastha Aur Manyeta Ke,
Sidhanto Ko Sadaiv Chunauti Main Deta Hu,
Unhe Apne Kathor Tark, Vitark Se,
Kasauti Par Parakh Kar Dharan Karta Hu,
Na Dharmik Hone Ka Aadambar Karta Hu,
Ji Haan Main Nastik Hu !!

Na Mujhe Dar Tere Banaye Kisi Ishwar Ka,
Na Hi Uske Naam Se Bhey Ka Dhandha Karta Hu,
Yatharthvaadi Vyakti Hu Taola Hai Apne
Har Vyavhaar Ko Tark Ke Traju Mein,
Andhvishwas Ek Sudhaar Virodhi Hathiyaar Hai,
Tark Hi Mere Jiwan Ka Marg Darshk Hai,
Ji Haan Main Nastik Hu !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account