कुदरत का भी अजब दस्तूर है

कुदरत का भी अजब दस्तूर है

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

कुदरत का भी अजब दस्तूर है,
जिससे तमन्ना थी बेइंतेहा रूबरू होने की,
वही सनम हमसे खफा और बहुत दूर है !!
मिन्नतें की खुदा से उसे पाने की,
अपनी शरीक-ए-हयात बनाने की !!
वही अपनों को छोड़ किसी गैर संग मसरूर है,
कुदरत का भी अजब दस्तूर है !!

जिसे चाहा बेतहाशा, उसी पर,
छाया किसी और की हसरत का फ़ितूर है !!
हमने की सच्ची वफा,
जो उसे हर दफा हुई नामंज़ूर है !!
अश्क बहाए हैं जिसकी याद में,
उसीने दिए काँटें ही फिज़ाओं वाले जरूर हैं,
कुदरत का भी अजब दस्तूर है !!

वो ठहरी बेवफा,
हम तो रहे वही दीवाने-मनमौजी-मतवाले !!
आज भी अपनी चाहत पर,
हमें नाज़ है, गुरूर है !!
जिसने ठुकराया,
उसी को चाहने को यह दिल बेबस और मजबूर है, क्योंकि-
कुदरत का भी अजब दस्तूर है !!
~सचिन अ. पाण्डेय

Kudrat Ka Bhi Ajab Dastoor Hai

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Kudrat Ka Bhi Ajab Dastoor Hai,
Jisse Tamanna Thi Beintah Rubaru Hone Ki,
Wahi Sanam Hamse Khafa Aur Bahut Door Hai !!
Minnatey Ki Khuda Se Use Paane Ki,
Apni Sharik-e-hayat Banane Ki !!
Wahi Apno Ko Chor Kisi Ger Sang Masroor Hai,
Kudrat Ka Bhi Ajab Dastoor Hai !!

Jise Chaha Behataasha, Usi Par,
Chaya Kisi Aur Ki Hasrat Ka Fitoor Hai !!
Hamne Ki Sacchi Wafa,
Jo Use Har Dafa Hui Namanjoor Hai !!
Ashq Bahaye Hai Jiski Yaad Mein,
Usine Diye Kaante Hi Fizaao Wale Jaroor Hai,
Kudrat Ka Bhi Ajab Dastoor Hai !!

Wo Thehri Bewafa,
Ham To Rahe Wahi Diwane-manmoji-matwale !!
Aaj Bhi Apni Chaht Par,
Hame Naaz Hai, Guroor Hai !!
Jisne Thukraya,
Usi Ko Chahne Ko Ye Dil Bebas Aur Majboor Hai, Kyonki-
Kudrat Ka Bhi Ajab Dastoor Hai !!
~Sachin A. Pandey

Sachin Brahmvanshi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account