महज़ तेरी याद से

Mehez Teri Yaad Se - Hindi Sad Love Shayari

www.PoemsBucket.com

ज़िन्दगी मझधार है,
हम फ़िर भी जीए जा रहे हैं ।
महज़ तेरी याद से,
ग़म-दर्द सीए जा रहे हैं ।
ज़िन्दगी मझधार है !

तुम्हें मुसर्रत हो मुबारक,
जफ़ा की सौगात में ।
हम तो समंदर पीर का,
मयकदों में पीए जा रहे हैं ।
ज़िन्दगी मझधार है !

अक्सर अदा ही बेवफाई,
होती मुक़ाम-ए-इश्क़ पर ।
फ़िर भी नग़मे प्यार के,
महफ़िलों में गाए जा रहे हैं ।
ज़िन्दगी मझधार है !

चोट खाई है मुसलसल,
की जो तुमसे माशूकी ।
फ़िर क्यूँ मुक़म्मल इश्क़ का,
राह चलते हर किसी को इल्म दिए जा रहे हैं ?
ज़िन्दगी मझधार है !

तुम-सा कोई न हो सका,
तुम-सा कभी न हो कोई ।
इस पार जो न हो मिलन,
उस पार मिलने की रज़ा हर बार किए जा रहे हैं ।
ज़िन्दगी मझधार है !
©सचिन ब्रह्म्वंशी

Mehez Teri Yaad Se - Hindi Sad Love Shayari

www.PoemsBucket.com

Zindagi Majhdhaar Hai,
Ham Fir Bhi Jiye Jaa Rahe Hai !
Mehez Teri Yaad Se,
Gam-dard Siye Jaa Rahe Hai !
Zindagi Majhdhaar Hai !

Tumhein Musarrat Ho Mubaark,
Jafaa Ki Saugaat Mein !
Ham To Samandar Peer Ka,
Mayekado’n Mein Piye Jaa Rahe Hai !
Zindagi Majhdhaar Hai !

Aksar Adaa Hi Bewafai,
Hoti Mukaam-e-ishq Par !
Fir Bhi Nagme Pyaar Ke,
Mehfilo’n Mein Gaye Jaa Rahe Hai !
Zindagi Majhdhaar Hai !

Chhot Khai Hai Musalsal,
Ki Jo Tumse Maashuki !
Fir Kyun Mukammal Ishq Ka,
Raah Chalte Har Kisi Ko Ilm Diye Jaa Rahe Hai ?
Zindagi Majhdhaar Hai !

Tum-sa Koi Na Ho Saka,
Tum-sa Kabhi Na Ho Koi !
Is Paar Jo Na Ho Milan,
Us Paar Milne Ki Razaa Hr Baar Kie Jaa Rhe Hain .
Zindagi Majhdhaar Hai !
©Sachin Brahmvanshi

Sachin Brahmvanshi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account