नज़रों से जो हमारी नज़रे मिल रही हैं

Nazro Se Jo Hamari Nazre Mil Rhi Hai - Love Ghazal

www.PoemsBucket.com

नज़रों से जो हमारी नज़रे मिल रही हैं,
दिल ठहर गया हैं, धड़कन चल रही हैं !!

जाल कैसा बून लिया तूने अदाओं का,
होंठ खामोश है, बस नज़रे छल रही हैं !!

ज़िन्दगी की हसीं राह पर चल रहा हूँ मैं,
सबकुछ हैं, मगर तेरी कमी खल रही हैं !!

कहने को बाते बहुत है, इस मुलाकात में,
लफ्ज़ होते हुए, क्यों खामोशी पल रही हैं !!

इश्क़ तो सिर्फ तेरे मेरे बीच का मामला हैं,
दोनों के प्यार में, क्यों  दुनिया जल रही हैं !!

मोहब्बत के इजहार में अब देरी ना करे हम,
सूरज डूबा जा रहा है और शाम ढल रही हैं !!
©केशव

Nazro Se Jo Hamari Nazre Mil Rhi Hai - Love Ghazal

www.PoemsBucket.com

Nazro Se Jo Hamari Nazre Mil Rhi Hai,
Dil Thehar Gya Hai, Dhadkan Chal Rhi Hai !!

Jaal Kaisa Boon Liya Tune Adaao Ka,
Honth Khamosh Hai, Bas Nazre Chhal Rhi Hai !!

Zindgi Ki Hasin Raah Par Chal Rha Hu Main,
Sabkuch Hai, Magar Teri Kami Khal Rhi Hai !!

Kehne Ko Baatein Bahut Hai, Is Mulaqat Mein,
Lafz Hote Huye, Kyon Khamoshi Pal Rhi Hai !!

Ishq Toh Sirf Tere Mere Bich Ka Mamla Hai,
Dono Ke Pyar Main, Kyon Duniya Jal Rhi Hai !!

Mohabbat Ke Izhar Mein Ab Deri Na Kare Hum,
Suraj Dooba Ja Rha Hai Aur Sham Dhal Rhi Hai !!
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

2 Comments
  1. Author
    Lokesh Gautam(Keshav) 7 महीना ago

    sukriya

  2. Aman Jha 7 महीना ago

    Bahut khub ❤️

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account