रिश्तों में लहजे जब गर्माने लगे

रिश्तों में लहजे जब गर्माने लगे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

रिश्तों में लहजे जब गर्माने लगे,
वसंत में भी फूल मुरझाने लगे !!

चाहा जिस को भी हद से ज़्यादा,
वही दिल से दूर फिर जाने लगे !!

आया था प्यासा समंदर की ओर,
दिशा गई उलट तो घबराने लगे !!

तसव्वुर में खोए रहते थे रात-भर,
हकीकत में आए तो बेगाने लगे !!

छलकाते थे जो जाम लबो से अपने,
आंखों में अश्क अब छलकाने लगे !!

छोड़ दिया उन्होंने महफिलों में आना,
ये मय-ख़ाने भी अब ग़म-ख़ाने लगे !!
©नीवो

Rishto'n Mein Lehje Jab Garmaane Lage

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Rishto’n Mein Lehje Jab Garmaane Lage,
Vasant Mein Bhi Phool Murjhaane Lage !!

Chaha Jis Ko Bhi Hadh Se Jayada,
Wahi Dil Se Door Phir Jaane Lage !!

Aaya Tha Pyasa Samader Ki Aur,
Disha Gayi Ulat To Ghabraane Lage !!

Tasavvur Mein Khoye Rehte The Raat-bhar,
Hakikat Mein Aaye Toh Begaane Lage !!

Chalkaate The Jo Jaam Labo Se Apne,
Aankhon Mein Ashk Ab Chalkaane Lage !!

Chhod Diya Unhone Mehfilo’n Mein Aana,
Ye May-khaane Bhi Ab Gam-khaane Lage !!
©Nivo

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account