इसे भी पढने लिखने का

इसे भी,
पढने लिखने का सपना सजाना अच्छा लगता है,
रोज़ शाम पार्क में खेलने जाना अच्छा लगता है !!
मजबूरी से कर दिया वक़्त से पहले बड़ा इसे,
वरना सिर पर किसको बोझ उठाना अच्छा लगता है !!
~नितिन वर्मा

ise bhi,
padhne likhne ka sapna sjana accha lagta hai,
roj shaam park mein khelne jana accha lagta hai !!
mazboori ne kar diya waqt se phele bda ise,
warna sir par kisko bojh uthana accha lagta hai !!
~Nitin Verma

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

1 Comment
  1. Vishal mishra 4 वर्ष ago

    Nice lines bro

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account