इसी उम्मीद में हम खुद को

हमारे आंसू पोंछ क्र वो मुस्कुराते है ,
इसी अदा से वो दिल को चुराते है !!
हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को ,
इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते है !!

Hamare aansoo poch kar wo muskurate hai,
aisi ada se wo dil ko churate hai !!
haath unka choo jaaye hamare chehre ko,
isi umeed mein ham khud ko rulate hai !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account