मेरा सच्चा दोस्त है एक कागज़

मेरा सच्चा दोस्त है,
एक कागज़ और एक कलम !!
दोस्ती करते वक़्त,
कभी पूछा नहीं धरम !!
दुनिया ने मुझे ठुकराया, रुलाया,
इस कागज़ ने मेरा दर्द अपने में समाया !!
कुछ भी लिखुं बुरा मानता नहीं,
आखिर इसी ने मुझे शायर बनाया !!
~नितिन वर्मा

Mera saccha dost hai,
ek kagaz aur ek kalam !!
dosti karte waqt,
kabhi poocha nahi dharam !!
duniya ne mujhe thukraya, rulaya,
is kagaz ne mera dard apne mein samaya !!
kuch bhi likhoo bura maanta nahi,
aakhir isi ne mujhe shayar banaya !!
~Nitin Verma

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account