Sapne Phir Naye Bunta Bhi Hai – Motivational Shayari

लक्ष्य भी है, मंज़र भी है,
चुभता मुश्किलों का खंज़र भी है !!
प्यास भी है, आस भी है,
ख्वाबो का उलझा एहसास भी है !!

रहता भी है, सहता भी है,
बनकर दरिया सा बहता भी है!!
पाता भी है, खोता भी है,
लिपट लिपट कर रोता भी है !!

थकता भी है, चलता भी है,
कागज़ सा दुखो में गलत भी है !!
गिरता भी है, संभलता भी है,
सपने फिर नए बुनता भी है !!

Lakshye bhi hai, manzer bhi hai,
chubhta mushkilo ka khanjar bhi hai !!
pyaas bhi hai, aas bhi hai,
khwabo ka ulja ehsaas bhi hai !!

rehta bhi hai, sehta bhi hai,
bankar dariya sa behta bhi hai !!
pata bhi hai, khota bhi hai,
lipat lipat kar rota bhi hai !!

NiVo (Nitin Verma)
Share This

आप भी पोएम्स बकेट पर
अपनी लिखी पंक्तियाँ भेज सकते है.

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

2 Comments
  1. devansh raghav 5 वर्ष ago

    Awsme Lines sir……

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account