थक गया हूँ रोटी के पीछे भागते भागते

थक गया हूँ .
रोटी के पीछे भाग भाग कर ,
थक गया हूँ ,
सोती राहो में जाग जाग कर !!
काश !
मिल जाए वही बीता हुआ बचपन .
जब माँ खिलाती थी भाग भाग कर !!
और सुलाती थी जाग जाग कर !!

Thak gya hoon,
roti ke peeche bhag bhag kar,
thak gya hoon,
soti raato mein jaag jaag kar!!
kash!
mil jaaye wahi beeta huya bachpan,
jab maa khilati thi bhag bhag kar!!
aur sulati thi jaag jaag kar!!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account