Ulfat Mein Aksar Aisa Hota Hai – Shayari

उल्फत में अक्सर ऐसा होता है,
आंखे हँसती है और दिल रोता है !!
मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी,
हमसफ़र उनका कोई और होता है !!

Ulfat mein aksar aisa hota hai,
ankhe hansti hai aur dil rota hai!!
maante ho tum jise manzil apni,
hamsafar unka koi aur hota hai!!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account