उतना ही मुस्कुराने की आदत है हमारी

दिल में बस जाने की फितरत है हमारी ,
अलग पहचान बनाने की आदत है हमारी !!
जितना गहरा घाव कोई देता है हमें ,
उतना मुस्कुराने की आदत है हमारी !!

Dil mein bas jaane ki fitrat hai hamari,
alag pehchaan banane ki adat hai hamari !!
jitna gehra ghaav koi deta hai hame,
utna muskurane ki adat hai hamari !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account