Waqt Guzarta Gya Dooriyan Badhti – Sad Shayari

वक़्त गुज़रता गया, दूरियाँ बढती गई,
जिंदगी हर शाम यूं ही ढलती रही !!
हर रोज़ मुझसे रूठ जाते थे किसी बात पर,
हर रोज़ मेरी तकदीर बस यूं ही बदलती रही !!
ख्वाब आयंगे कैसे इन सुनसान रातो में,
तेरे बिना नींद भी बस यूं ही मचलती रही !!
रंज की तपिश में ख़ाक हो गया सब कुछ,
आंसूओ में जिंदगी यूं ही पिघलती रही !!

Waqt guzarta gya, dooriya badti gayi,
zindgi har shaam yu hi dhalti rahi !!
har roz mujhse rooth jaate the kisi baat par,
har roz meri takdeer bas yu hi badalti rahi !!
khwab ayenge kaise in sunsaan raato mein,
tere bina neend bhi bas yu hi machalti rahi!!
ranj ki tapeesh mein khaak ho gya sab kuch,
aansuo mein zindgi yu hi pighalti rhi !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account