जिंदगी के सफ़र में

जिंदगी के सफ़र में ,
तजुर्बा कच्चा ही रह गया !!
हम ना सीख सके फरेब , और ,
ये दिल बच्चा ही रह गया !!

Zindgi ke safar mein,
tajurba kaccha hi reh gaya !!
ham na seekh sake fareb, aur,
yeh dil baccha hi reh gaya !!

PoemsBucket<span class="bp-verified-badge"></span>
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account