जिंदगी के सफ़र में

जिंदगी के सफ़र में ,
तजुर्बा कच्चा ही रह गया !!
हम ना सीख सके फरेब , और ,
ये दिल बच्चा ही रह गया !!

Zindgi ke safar mein,
tajurba kaccha hi reh gaya !!
ham na seekh sake fareb, aur,
yeh dil baccha hi reh gaya !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account