Adhoori Ishq Paheli Likh Doo – Sad Love Shayari

अधूरी इश्क पहेली लिख दूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

यूं ही पड़ी कलम सिराहने, तो सोचा तुम्हारा बर्ताव लिख दूं,
थोडे अपने ‘भाव’ लिख दूं, थोङे तुम्हारे ‘भाव’ लिख दूं !!

ये पत्ता जो गिरा पेङ से, इस पर पलकों की छांव लिख दूं,
जो दूसरो ने दिखाये मुझको, क्या तुम्हारे ये ऐब हैं??

गवाह भी तुम्हारे बने हम, फिर भी बोला सब नजरों का फरेब हैं,
ये खेल जीता दूं तुमकों, नाम तुम्हारे सारे दाव लिख दूं !!

वसीयतनामे में अपनी, तुम्हारे नाम शब्दों के सारे गांव लिख दूं,
थोडे अपने ‘भाव’ लिख दूं, थोङे तुम्हारे ‘भाव’ लिख दूं !!

खाली पड़ा ये पन्ना तो सोचा, कविता कोई नयी नवेली लिख दूं,
अनसुलझी ये मेरी दास्तां, अधूरी ये इश्क पहली लिख दूं !!
~कविश कुमार

yoo hi padi kalam sirhane, toh socha tumhara bartaav likh du,
thode apne ‘bhaav’ likh du, thode tumhare ‘bhaav’ likh du !!

ye patta jo gira pedh se, is par palko ki chav likh du,
jo doosro ne dikhaye mujhko, kya tumhara ye eb hai?

gavah bhi tumhare bane ham, phir bhi bola sab nazaro ka fareb hai,
ye khel jeeta du tumko, naa tumhare saare daav likh du !!

vasiyatnaamein mein apni, tumhare naam shabdo ke saare gaav likh du,
thode apne ‘bhaav’ likh du, thode tumhare ‘bhaav’ likh du !!

khaali pda ye panna toh socha, kavita koi nayi naveli likh du,
ansuljhi ye meri daastan, adhoori ye ishq pehli likh du !!
~Kavish Kumar

kavish kumar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

1 Comment
  1. Arpita 5 वर्ष ago

    Very heart touching <3 …

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account