Bana Vidhushak Jivan Pat Par – Hindi Shayari

बना "विदूषक" जीवन पट पर

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

जुगनू बनकर इस जीवन की रात अँधेरी काट गया,
मिले दर्द औरो के तो मै अपने हिस्से में छाँट गया ।।
आखिर हूँ मै कौन, कहाँ से आया हूँ, क्या हूँ, ज्ञात नही,
बना “विदूषक” जीवन पट पर अपनी खुशिया बाँट गया ।।
~कुमार रवि हिन्द

Bana "Vidhushak" Jivan Pat Par

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Jugnoo Bankar Is Jeevan Ki Raat Andheri Kaat Gya,
Mile Dard Auro Ke To Main Apne Hisse Mein Chaant Gya !!
Aakhir Hu Main Kon, Kahan Se Aaya Hu, Kya Hu, Gyaat Nahi,
Bana “Vidhushak” Jivan Pat Par Apni Khushiya Baat Gya !!
~Kumar Ravi Hind

Kumar ravi hind
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account