Chehre Ke Bholepan Ko Chua Jin Haatho Ne – Sad Love Shayari

चेहरे के भोलेपन को छुआ जिन हाथों ने

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

चेहरे के भोलेपन को छुआ जिन हाथों ने,
मुरादो को जैसे नायाब कर दिया !!
शब्द गिरे तेरे चेहरे से जब पन्नो पर,
तो पन्नो ने भी कमाल कर दिया !!
पन्ने जोङकर तेरी स्वप्न तस्वीरो से,
खुद की ही किताब को मैने निढाल कर दिया !!
तेरे अश्क गिरे जैसे तेजाब की बारिश हो,
जिसने मेरी ‘सुरांगना’ को बर्बाद कर दिया !!
~कविश कुमार

Chehre ke bholepan ko chuya jin haatho ne,
muraado ko jaise naayab kar diya !!
shabd gire tere chehre se jab panno par,
toh panno ne bhi kamaal kar diya !!
panne jodkar teri swapan tasveero se,
khud ki hi kitaab ko maine nidhaal kar diya !!
tere ashk gire jaise tezaab ki barish ho,
jisne meri suraangna ko barbaad kar diya !!
~Kavish Kumar

kavish kumar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account