Dashanan Ka Vad – Motivational Shayari

दशानन का वध

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

चलो अपनी खुशी की झूठी साधना को,
आज भंग कर देते हैं !!
जिन कागजों को जरूरत है रंगो की,
उनमे रंग भर देते हैं !!
जो बेचते हैं ‘रावण’ बच्चे इन चौराहो पर,
बचपन की यादों को जवां कर देते हैं !!

खरीदतें हैं चलो इन गरीब बच्चों से इनको,
अनमोल ‘मुस्कान’ चेहरे पर दे देते हैं !!
खुश हो जाए हर दिल भी सबका,
खुशी को ही उनकी ‘शान’ कर देते हैं !!
खरीद लेते हैं गम थोङा सा,
उनके गमो को ‘मसान’ कर देते है !!

चलते हैं थोङी नेक राह पर,
इंसानियत की ‘हद’ पार कर देते हैं !!
तलाशते हैं मौजूद खुद की एक बुराई को,
अन्दर के दशानन का ‘वध’ कर देते हैं !!
~कविश कुमार

Chalo apni khushi ki jhoothi sadhna ko,
aaj bhng kar dete hain !!
Jin kagajo’n ko jaroorat hai rango ki,
unme rang bhar dete hain !!
Jo bechate hain ‘ravan’ bacche in chauraho par,
bachpan ke yaado’n ko javaa’n kar dete hain !!

Kharidtein hain chalo in gareeb baccho se inko,
anmol ‘muskaan’ chehre par de dete hain !!
Khush ho jaaye har dil bhi sabka,
khushi ko hi unki ‘shaan’ kar dete hain !!
Khareed lete hain gam thoda sa,
unke gamo ko ‘masaan’ kar dete hai !!

Chalte hain thodi nek raah par,
insaaniyat ki ‘hadh’ paar kar dete hain !!
Talaashte hain maujood khud ki ek burai ko,
andar ke dashaanan ka ‘vadh’ kar dete hain !!
~Kavish Kumar

kavish kumar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account