Durguno Ka Sagar Chor De – Hindi Thought

दुर्गुणों का सागर छोड के

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

दुर्गुणों का सागर छोड के,
सद्गुणों का झरना अपना ले !!

सागर बड़ा पर प्यास न बुझेगी,
झरना है छोटा,
पर नवीन है हरेक धारा उसकी,

करके स्नान उसमे तू खुद को पा ले !!
~विजय सिंह दिग्गी

Durguno ka sagar chod ke,
sadguno ka jharna apna le !!

sagar bada par pyaas na bhujegi,
jharna hai chota,
par naveen hai harek dhara uski,

karke snaan usme tu khud ko pa le !!
~Vijay Sigh Diggi

vijay singh diggi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account