Gujare Huye Waqt Ka Koi Ansh Aaj Bhi Hai Mere Saath – Sad Shayari

गुजरे हुए वक़्त का कोई अंश आज भी है मेरे साथ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

सीने में मेरे आज, दर्द सा कोई सुकून भी है साथ,
तन्हा शाम की हँसती रात भी है साथ !!
आँखों से बहते गम में, ख़ुशी के अश्क भी है साथ,
गुजरे हुए वक़्त का कोई अंश आज भी है मेरे साथ !!
~विजय सिंह दिग्गी

Seene me mere aaj, dard sa koi sukoon bhi hai saath,
Tanha shaam ki hansti raath bhi hai saath !!
Aanko se behte gum me, khushi ke ashq bhi hai saath,
Gujare huye waqt ka koi ansh aaj bhi hai mere saath !!
~Vijay Singh Diggi

vijay singh diggi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account